Thursday, August 29, 2013

साल इक बीता बिना तुम्हारे

सुर की समझ तो  थी पहले भी
सीखा तुमसे बोल पिरोना
गीत हैं बिखरे बिना तुम्हारे
साल इक बीता बिना तुम्हारे

हर सू वैसे रंग ही रंग थे
सीखा तुमसे रंग सजाना
अब रंग फीके बिना तुम्हारे
साल इक बीता बिना तुम्हारे









राहें चलती थी तुम बिन भी
 सीखा तुमसे राह पे चलना
मोड़ हर सूना बिना तुम्हारे
साल इक बीता बिना तुम्हारे

जीवन हमको जी ही रहा था
सीखा तुमसे जीवन जीना
और अब जीना बिना तुम्हारे
साल इक बीता बिना तुम्हारे





This is a remembrance for Asheesh Sharma...My closest friend, a pure soul who touched my life in a magical way when I needed it most and an exemplary Pilot in the IAF!! You live in our hearts Asheesh... Souls like you can never perish