Thursday, September 19, 2019

रहने दो!

तुम रहने दो
हाँ! रहने ही दो
मेरा साथ देना
साथ तैरना तुम्हारे
लिए मुमकिन नहीं
मैं तैरना ही नहीं
उड़ना भी चाहती हूं

मगर तुम्हारे पैरों
में पत्थर बंधे हैं
झूठे शिष्टाचार और
खोखली मान्यताओं के
भारी भरकम पत्थर
जिनकी ज़जींरो को मैं
नहीं खोल पाऊँगी

कोई नहीं खोल पाएगा
सिवाय खुद तुम्हारे
अपना वजूद खोकर
वापिस वो ढूढता है
जिसका वजूद पनपा हो
बरगद के नीचे
कुछ नहीं पनप सकता

तुम रहने दो
बस रहने दो!

Wednesday, February 13, 2019

Every Kiss Counts

Every kiss counts
Every moment a varied hue

The imagined first kiss
Which still exists in my heart

The shy unspoken one
Which still lingers on your lips

The hasty half kiss
Abandoned when someone came

The hazy drunk one
Details forgotten yet real

The filial caring kiss
Planted on the forehead softly

The daily hurried one
Brushing the cheek saying bye

Lastly the complete on the mouth kiss
Passionate, satiating and intense

And every time with every kiss
I possess a little more of you.